Tagged: कुँवारी चूत

जीभ को लग गया चूत का चस्का

मैंने उसके एक बूब्स को एक हाथ में लिया और दूसरा हाथ उसकी पेंटी में डाल दिया और उसकी चूत को पहली बार छूकर देखा. मेरे छूते ही वो बिल्कुल पागल हो गयी और उसने एकदम से पलटकर मुझे बिल्कुल टाईट पकड़ लिया और मुझे लिप किस करने लगी और सिसकियाँ लेने लगी.मुझे पता चल चुका था कि अब सब कुछ मेरे हाथ में या मेरे लंड में है. में उसकी चूत को पेंटी के अंदर ही बार बार छू रहा था और धीरे धीरे सहला रहा था

सील पैक चूत को लंड चुसवा के चोदा

मुझे लड़कियों में बहुत दिलचस्पी थी, मेरा मन उनके साथ सेक्स करने का करता था परन्तु मुझे कोई लड़की मिलती ही नहीं थी। वैसे मेरी बहुत सी लड़कियां फ्रेंड भी थी परन्तु मैं उनके...

टाईट कुर्ती में करती बूब्स फाइट

टाईट कुर्ती में करती बूब्स फाइट, उंगली मेरी चूत की बीच की जगह में घुसा दी और मेरे दाने को सहलाने लगे.. मेरी चूत अपने आप गीली हो गई.. जिससे में मस्त हो रही थी। फिर मैंने अपनी जांघे और खोल दी.. मौसा जी का इस तरह मेरे चूत के दाने को रगड़ना मुझे पागल कर रहा था.. इसका सबूत था मेरी चूत.. जो नल की तरह पानी छोड़ रही थी

अंकल की बेटी को आराम से

अंकल की बेटी को आराम से, कृतिका ने बिना किसी संकोच के मेरा सार वीर्य पी लिया.. अब मैंने उसको लिटा लिया और उसके ऊपर आ कर उसे चूमने लगा.. थोड़ी ही देर में मेरे लिंग में फिर से उत्तेजना आ चुकी थी

पड़ोस के एक लडके से खूब चुदवाया

इन सभी एपिसोड्स ने मेरे सेक्स की इच्छा तीव्र कर दी काश मैं पहले से ही चोकन्ना रहता तो फल को कोई दूसरा नहीं चखता लेकिन जो लिखा था उसे मिटाया तो नहीं जा सकता था सुधा जैसी मस्त जवानी को तो जूठा होना ही था इसमें सुधा की कोई गलती नहीं थी मेरी गलती थी

मै और मम्मी एक साथ तीन लौड़ो से चुदी

हेल्लो यह मेरी और मम्मी की ग्रुप में चुदाई की कहानी है आशा करती हूँ आप सभी लोगो को पसंद आएगी मेरी कहानी अगर कुछ कहना है तो कमेंट में लिखे मै जवाब दूंगी |

मेरा लौड़ा पहली बार चुत में घुसा

मैंने उसकी टांगे फैलाई और उसकी चूत में अपना लंड हल्का सा घुसाया तो वो थोड़ी सी चिल्लाई। फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया। फिर में दुबारा उससे चिपका और उसे स्मूच की और 1 मिनट के बाद फिर से कोशिश की, तो इस बार मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अंदर चला गया।

धीरे-धीरे लंड अंदर चला गया और फिर

हैल्लो दोस्तों मेरा नाम गौतम है ये गर्मियो के महीने की बात है शायद जून या जुलाई की है। मेरे घर के सभी लोग पापा, मम्मी और छोटा भाई गावं गये हुए थे और घर पर में लगभग 18 दिनों के लिए अकेला था।

हम हर दिन रात कभी भी जमकर चुदाई किया करते है

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम अनिल है और मेरी उम्र 21 साल है। ये कहानी एक साल पहले की है जिसमें 2 परिवार है, एक मेरी और दूसरी हमारे परिवार फ्रेंड गोपाल अंकल की है।...

और मै चुद गयी मेरी सील टूट गयी

उन्होंने मुझे बेड पर धक्का दिया और मै चुद गयी मेरी सील टूट गयी जब उन्होंने मेरी चुत पर अपना लौड़ा रखा तब तक कुछ नहीं हुआ जैसे ही थोडा सा गया फिर ना पूछो सखी बस पढ़ लो |

भाई थोडा धीरे से डालना दर्द हो रहा है

भाई थोडा धीरे से डालना दर्द हो रहा है जब इतनी आवाज मेरा कान में गयी मेरी स्पीड और बढ़ गयी मैंने और जोर जोर से धक्के मारने लगे अब सुकी चुत झड़ने के करीब थी |