Tagged: दोस्त की बहन

लड़की को उसके ससुराल जाकर चोदा

उन्होंने अपने मुहं में मेरे लंड को लिया और वो अब मेरे लंड को पागलों की तरह चूसने लगी और अब में भी उसके बूब्स दबा रहा था और उस समय मुझे जो आनंद मिल रहा था में वो आप लोगो को शब्दों में नहीं बता सकता। उनके बूब्स का साईज़ 36 था और उसके बूब्स बिल्कुल गोल पहाड़ की छोटी की तरह तनकर खड़े हुए थे। में उनके निप्पल को ज़ोर ज़ोर से चूस रहा था और दबा रहा था

बड़ी बहन की बिना चूदी छोटी चूत मारी

बड़ी बहन की बिना चूदी छोटी चूत मारी, चुदाई करने के बाद मैंने अपने वीर्य को जैसे ही उसकी चूत में निकाला तो मैंने उसके होठों को कुछ देर अपने होठों में दबा लिया और एक तरफ उसकी दोनों चूचीयों को मसलता रहा तो दूसरी तरफ उसके होठों को चूसता रहा और उसने भी मेरा पूरा साथ दिया अब हम दोनों ही बुरी तरह से थक चुके थे

जब गरम हुई चुत तो हुए रिश्ते बदनाम- 1

जब गरम हुई चुत तो हुए रिश्ते बदनाम-1, मैं जल्दी से अपने कपडे समेट के अपनी नंगे शरीर को छुपाते हुए अपने कमरे की तरफ भागी पलट के पीछे देखा तो युवराज ने निर्मल को धक्का दे दिया था पर बंटी मेरे तरफ देख के हंस रहा था मुझे गुस्सा भी आया और शर्म भी

तीन लंड और चार चूत – सामूहिक चुदाई

उस रात हम सभी ने गांड और चूत की सेवा की और कब किसने किसकी सेवा की ये तो अब हमें भी याद नहीं रहा और सुबह के चार बजे हम वहीं सारे नंगे ही सो गये और हमने उस रात खूब मजा किया ।

उसकी गाण्ड तो.. हाय मार ही डाले

इसकी नायिका मेरे दोस्त की बहन है उसके बूब्स गजब के है और उसकी गाण्ड तो.. हाय मार ही डाले ऐसी ही है पहली चुदाई में उसका खून निकल गया और उसका कोमार्य भंग किया फिर क्या उसका बाद हमने बहुत बार जब इच्छा होती या जब मेरा लौड़ा खड़ा होता तन मैं चुदाई शुरू कर देता और वो भी बहुत गरम हो जाती चुदवाने के लिए

भाई के दोस्त संग नंगा बैठ बेशर्मी से चुदाई

भाई के दोस्त संग नंगा बैठ बेशर्मी से चुदाई किया मैंने और उसे चुदाई में एक्सपर्ट बना दिया और ये सब भाई के घर पे नही था तब हुआउसने लंड पे थुक लगा लगा के चोदा

बहना मेरी गोरी चुत वाली

दोस्तों यह कहानी आज से तीन साल पहले की है, दोस्तों मैंने अपनी इस कहानी को सिस्टर की गोरी गांड और गुलाबी चूत नाम दिया है | जब में 12th में था और मेरी...

चुत में जीभ जाते ही पता चला की माल ताजा है

ये कहानी एक कुवारी चुत वाली कमसिन जवान लड़की यानि मेरे दोस्त की बहन की कहानी है जिसकी चुत में जीभ जाते ही पता चला की माल ताजा है उस ताजे माल की सील तोड़ मैंने अपना कामरस भर दिया जवानी के सही वकत में कुवारी लड़की मिल गई और सोने पे सुहागा हो गया

दोस्ती का फर्ज अदा किया-16

मैंने भी उन्हें चूमना चालू किया और चूमते-चूमते मैं उनके कान के पास आया और फुसफुसा कर बोला- चाहता तो मैं भी तुम्हारे रस को पीना चाहता हूँ।  तो वो ख़ुशी से खिलखिलाकर हंस...

दोस्ती का फर्ज अदा किया-15

जैसे ही मेरी आँखें खुलीं.. तो मैंने आंटी का मुस्कुराता हुआ चेहरा सामने पाया.. मैंने उनसे पूछा- क्या हुआ.. आप इतना मुस्कुरा क्यों रही हो?  तो वो बोलीं- बस ऐसे ही..  मैं बोला- अच्छा.. ऐसा...

दोस्ती का फर्ज अदा किया-14

फिर मैं अपने आपको सम्हालते हुए अपनी जेब में हाथ डालकर लौड़े को सही करने लगा.. क्योंकि उस समय मैंने सिर्फ लोअर ही पहन रखा था। मैं जल्दबाज़ी में चड्डी पहनना ही भूल गया था.....