Category: रिश्तों में चुदाई

चुदाई की प्यास मे रिश्ते मैं भूल गया-1

बहन को पीछे से पकड़ के सोफे पर लिटा दिया और उन पर चढ़ कर उन्हें बेतहाशा चूमने लगा.. वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थीं। मैं इस दौरान अपना लण्ड उनकी चूत पर रगड़ रहा था और क्या बताऊँ दोस्तो.. तभी वो वक्त आ गया.. जिसका मुझे शिद्दत से इंतजार था। उन्होंने खुद मेरा लण्ड पकड़ कर अपनी चूत के दरवाजे पर रख दिया, मैंने भी देर न करते हुए धीरे से अपना सुपारा अन्दर घुसा दिया।इस दौरान उन्होंने अपने आपको थोड़ा एडजस्ट किया.. जिससे उनकी चूत थोड़ा और खुल गई।

जीभ को लग गया चूत का चस्का

मैंने उसके एक बूब्स को एक हाथ में लिया और दूसरा हाथ उसकी पेंटी में डाल दिया और उसकी चूत को पहली बार छूकर देखा. मेरे छूते ही वो बिल्कुल पागल हो गयी और उसने एकदम से पलटकर मुझे बिल्कुल टाईट पकड़ लिया और मुझे लिप किस करने लगी और सिसकियाँ लेने लगी.मुझे पता चल चुका था कि अब सब कुछ मेरे हाथ में या मेरे लंड में है. में उसकी चूत को पेंटी के अंदर ही बार बार छू रहा था और धीरे धीरे सहला रहा था

मेरी दीदी की वासना बढ़ती जा रही है

नंगे मम्मे का एहसास कुछ और ही था। मैं धीरे धीरे मम्मे दबाने लगा क्योंकि मुझे मालूम था की विभा दीदी को कोई ऐतराज़ नहीं। थोड़ी देर बाद मैंने दूसरा हाथ उसकी टांग पे रख दिया। मैंने दोनों हाथ धीरे धीरे फेर रहा था।विभा दीदी की साँसे तेज़ चल रही थी और मैं महसूस कर रहा था

माँ और उनके बाद मामी दोनों की चूत लिया

मामी के लिप पर किस कर दिया और लिप पर काट लिया। तो मामी बोली अबे हरामी मामी को किस करते-करते काटता है। फिर मैंने उनके बूब्स दबाने चालू कर दिए। मैंने कभी मामी को उस नज़र से नहीं देखा था, लेकिन मामी ने मुझे ललकार कर उन्हें चोदने के लिए उकसाया। फिर मैंने मामी के सारे कपड़े उतार कर फेंक दिए और अब मामी मेरे सामने पूरी नंगी थी

डिल्डो से भाभी अपनी गांड के बजाय मेरी मार दी

भाभी अपने नये लंड से मेरी गांड को सहला रही थी और मेरी गांड को काट भी रही थी। अब मुझे दर्द भी हो रहा था, लेकिन मज़ा भी आ रहा था। फिर भाभी ने वो रबड़ का लंड मेरी गांड में घुसा दिया और मेरी गांड मारने लगी, आआआ अब में ज़ोर जोर से मौन करने लगा था। फिर भाभी ने मुझे जोर से पकड़ा और ज़ोर से मेरी गांड मारती रही आआहह भाभी मज़ा आ गया

सौतेली माँ के साथ दमादम चुदाई

उसकी गांड को अपने हाथ से फैलाया और खूब सारा थूक लिया और लंड को उसकी गांड पे सेट किया और एक जोरदार धक्का मारा तो लंड आधे से जादा उसकी गांड में घुस गया और उसके मुह से हलकी सि चीख निकली, फिर थोड़ी देर बाद उसका दर्द कम हो गया तो मेने धक्के मारने शुरू किये

मामी को दिया दिवाली में अपना लौड़ा

मामी ने कहा कि इतना भोला मत बन.. उस दिन तो बड़े प्यार से मेरा ब्लाउज सूंघ रहा था और बाद में मूठ भी मारी थी.. तो में ये सुनकर हैरान रह गया। मैंने मामी से पूछा.. आपको कैसे पता? तो मामी ने कहा कि अरे में तेरी मामी हूँ और पास आकर मुझसे चिपक गई और बोली कि आज में सिर्फ़ तुम्हारी हूँ और ये मामी और भांजे का रिश्ता भूल जा और मुझे अपनी गर्लफ्रेंड समझकर प्यार करना

ग्रुप में चुदकर बीवी की चूत को शांती मिली

काला लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और उसकी तरफ देखते हुए उसका लंड हिलाने लगी। अब उसका लंड तो पहले से ही तना हुआ था, लेकिन मेरी बीवी के मुलायम हाथ लगने से और भी ज्यादा हिलने लगा था अब मेरी बीवी के हाथ उसके लंड पर ऊपर नीचे हो रहे थे और फिर मेरी बीवी ने कहा कि बता तेरा लंड अपने मुँह में लूँ क्या? वो लड़का बोला कि हाँ मेडम प्लीज मेरा लंड हिलाओ और अपने मुँह में ले लो

बेटे के मोटे लंड से चुदवाती

अब उसका मन भी चुदाई के लिए मचल रहा है। तो मैंने उसी समय यश का लंड अपने मुँह से निकाल दिया और अपनी चूत फैलाकर बोली कि यश अब घुसा दो अपने लंड को अपनी माँ की चूत में, चोद लो जी भरकर अपनी माँ की चूत को

मेरे पति कभी मेरी चूत नहीं चाटते

हम 69 पोज़िशन में आ गये। अब वो मेरा लंड जोर से चाट रही थी और में उसकी चूत को चाट रहा था। फिर वो बोली कि मेरे राजा अब नहीं रहा जाता, प्लीज मुझे चोद डालो। फिर मैंने बोला ठीक है। फिर हम सीधे हो गये तो वो बोली कि लाओ थोड़ा लंड चूस लूँ। फिर डालना तो वो जोर से मेरा लंड चूसने लगी. फिर 5 मिनट तक लंड चूसने के बाद बोली कि चलो अब डालो। फिर वो सीधी लेट गई और मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर रखा तो वो बोली क्यों तड़पा रहे हो अपनी रानी को

मस्त चूची व चिकनी दूधिया जांघ

मेरी तो चूत की धज्जियाँ उड़ जाएंगी , ना भैय्या ना , प्लीज इससे तुम मुझे मत चोदना” भाभी गिडगिडाते हुए बोली। ” तुम पागल हो क्या भाभी ! चूत की भी कभी धज्जियाँ उडी है ? चूत तो बिल्कुल रबड़ जैसी होती है , उसमे जैसा भी लंड पेलो वो उसी के साइज़ में फैल जाती है” मै भाभी को समझाते हुए बोला