Category: हिंदी सेक्स कहानियाँ

फूफा ने मुझे और मेरी नौकरनी को भी नहीं छोड़ा

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम रूबी है और अब में अपनी घटना को विस्तार से सुनाने जा रही हूँ जिसमें मैंने मेरी बुआ के पति के साथ अपनी चुदाई के बहुत मज़े लिए। दोस्तों उस...

माँ की चुत आज चोद ले बेटा

माँ मुझे चूमने लगी बेटा सही मे तूने मुझे पागल बनाया है और मेरे हाथ पकड़ के ब्लाउस मे डाले और मेरी ज़िप खोल के लंड बाहर निकाला और ब्लाउस के हुक खोले और साड़ी उपर उठाके घोड़ी बनी और बोली बेटा घुसाओ ना, मैं खड़े खड़े पिछे से गंद दबाता चूत मे लंड धूकने लगा. मम्मी बोल रही थी चोद अपनी माँ को

मेरी चुदकड़ बीवी को मेरे पापा ने चोदा

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राहुल है और में दिल्ली से हूँ। में भी अन्तर्वासना ड्डोत नेट का पिछले कुछ सालों से एक बहुत अच्छा दोस्त बन चुका हूँ और मुझे इसके साथ अपना समय...

भाई के साथ चुदाई वाला अनुभव

मेरा नाम प्रीति है और मैं एक सुन्दर गोरी कमसिन लड़की हूँ और 12वीं क्लास में पढ़ती हूँ। मैं आज आप सभी दोस्तो को अपनी एक सच्ची कहानी सुनाने जा रही हूँ, जो कि...

चुत बनी रसीली गन्ने के खेत मे

मैने उसके बूब्स को उसकी ब्रा से आज़ाद कर दिया और वो खुली हवा मे आ गये और मैं उनका रस्पान करने लगा ओर वो इस मस्ती मे, आहह आआआ की आवाज़े निकालने लगी. इसी बीच मे मैने एक हाथ से उसकी सलवार का नाडा खोल दिया ओर उसकी पेंटी मे हाथ डाल दिया. अब वो इस समय इतनी मस्त हो चुकी थी कि उसने कोई विरोध नही किया

चुदाई की प्यास मे रिश्ते मैं भूल गया-2

सच में दोस्तो, मैं अपनी बहन का प्यार पाकर धन्य हो गया। इस बार झड़ने के बाद मेरा लण्ड ढीला पड़ गया, अब उसमें थोड़ा दर्द भी महसूस हो रहा था। आखिरकार लण्ड पिछले एक घंटे से खड़ा जो था.. इतनी मेहनत के बाद उसकी थकान तो लाजमी ही थी। मैं और बहन बिना लण्ड निकाले ही कितनी ही देर तक एक-दूसरे की बाँहों में पड़े रहे और एक-दूसरे को प्यार करते रहे।