Author: राकेश रोकी

डिल्डो से भाभी अपनी गांड के बजाय मेरी मार दी

भाभी अपने नये लंड से मेरी गांड को सहला रही थी और मेरी गांड को काट भी रही थी। अब मुझे दर्द भी हो रहा था, लेकिन मज़ा भी आ रहा था। फिर भाभी ने वो रबड़ का लंड मेरी गांड में घुसा दिया और मेरी गांड मारने लगी, आआआ अब में ज़ोर जोर से मौन करने लगा था। फिर भाभी ने मुझे जोर से पकड़ा और ज़ोर से मेरी गांड मारती रही आआहह भाभी मज़ा आ गया

सोशल नेटवर्किंग साईट पे मिली लड़की की चुदाई

अब हम दोनों तड़प रहे थे मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा और धक्का दिया मेरा ६ का लंड उसके बूर के अन्दर आधा जा चुका था मैंने महसूस किया कि दर्द के मारे उसके आँखों से आंसू निकल आए थे उसने जवाब दिया इस दर्द को पाने के लिए हर लड़की जवान होती है इस दर्द को पाए बिना हर यौवन अधूरा है

अंकल की बेटी को आराम से

अंकल की बेटी को आराम से, कृतिका ने बिना किसी संकोच के मेरा सार वीर्य पी लिया.. अब मैंने उसको लिटा लिया और उसके ऊपर आ कर उसे चूमने लगा.. थोड़ी ही देर में मेरे लिंग में फिर से उत्तेजना आ चुकी थी

मेरी काव्या दी की चुदाई भाग-2

मेने दी कि चुत पे रख दिया और चुत को सहलाने लगा। दी अब मछली की तरह छटपटा रही थी। मेने चुत में एक उंगली डाली तो दी नीचे ज़ुक गई तो मैने उनकी चूचियो को अपने एक हाथ से पकड़ी और वापस उठाया और दूसरे हाथ से चुत में उंगली करना शूरु कर दिया।

मेरी काव्या दी की चुदाई भाग-1

दोस्तों जैसा की इस कहानी के शीर्षक से आप समझ गये होंगे की मैंने अपनी दीदी की चूत चोदी है मै अपनी दीदी की चूत का दीवाना हु जब तक दीदी की चुदाई ना कर लू मुझे रात को नीद ही नहीं आती है आप भी पढ़े मै अपनी दी को कैसे चोदता हूँ |