Author: Guruji

काले और मोटे लंड की चुदास

उसके बूब्स को हल्के हल्के मसलने लगा और उसकी तरफ से मुझे कोई भी शिकायत नहीं हुई तो में थोड़ा ज़ोर पे ज़ोर लगाने लगा और उसके निप्पल को बादाम के जैसा मजबूत बना दिया और अब मेरे दोनों हाथ उसकी कमर पर थे। दोस्तों में अब उसके बूब्स को हल्के हल्के मसलने लगा था

मखमली चुत को चाट के झड़ाया

में झटके पर झटके मार रहा था और वो फक मी बेबी, ऑश यअहह फक मी जान कह रही थी। फिर 10 मिनिट की चुदाई के बाद मे वो झड़ गयी और जब वो झड़ रही थी तो उसका बदन देखने लायक था, पूरे शरीर मे कम्पन सा हो रहा था और वो बँधी हुई शेरनी की तरह छटपटा रही थी

कामसूत्र के बारे मे जाने? किसने कामसूत्र को लिखा?

कामसूत्र ने दाम्पत्य उल्लास एवं संतृप्ति के लिए यौन-क्रीड़ा को आधार माना है। दाम्पत्य जीवन में उल्लास एवं उमंग का संचार तभी होता है जब पति पत्नी दोनों में मानसिक तालमेल हो, दोनों एक दूसरे के परिपूरक बनने का प्रयास करें तथा यौन क्रीड़ा के समय पारस्परिक सहयोग करें और अपने अपने लक्ष्य की ओर आत्मविश्वास के साथ निरन्तर आगे बढ़ते रहें

नौकर से माँ चुदने के बाद अब मुझसे चुदी

नौकर से चुदवाकर हुए उनकी चूत बहुत खुल गई थी और अब मेरा नौकर लगातार धक्के पे धक्के मारे जा रहा था आआहहहाा आआईईईईइ और अब माँ अपनी चुदाई के बहुत मज़े ले लेकर सिसकियाँ मारे जा रही थी और अब मेरे नौकर ने भी अपनी चुदाई की स्पीड को बढ़ा दिया था और फिर उस पूरे रूम में धक्को की आवाज़ आ रही थी

फूफा ने मुझे और मेरी नौकरनी को भी नहीं छोड़ा

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम रूबी है और अब में अपनी घटना को विस्तार से सुनाने जा रही हूँ जिसमें मैंने मेरी बुआ के पति के साथ अपनी चुदाई के बहुत मज़े लिए। दोस्तों उस...

माँ की चुत आज चोद ले बेटा

माँ मुझे चूमने लगी बेटा सही मे तूने मुझे पागल बनाया है और मेरे हाथ पकड़ के ब्लाउस मे डाले और मेरी ज़िप खोल के लंड बाहर निकाला और ब्लाउस के हुक खोले और साड़ी उपर उठाके घोड़ी बनी और बोली बेटा घुसाओ ना, मैं खड़े खड़े पिछे से गंद दबाता चूत मे लंड धूकने लगा. मम्मी बोल रही थी चोद अपनी माँ को